महक सा गया

महक सा गया
*
वक्त गुजरा सिखाकर सबक सा गया
एक पत्ता हवा से सरक सा गया
*
ओस की बूँद सुन्दर लगी फूल पर
अश्क जैसे खुशी का छलक सा गया
*
डाल पर हर कली झूमने लग पड़ी
मस्तमन श्याम भंवरा बहक सा गया
*
बह चली जब हवा फूल को चूमकर
खुशनुमा हो चमन भी महक सा गया
*
पंछियों से भरा है शजर देखिए
शाम ढलने लगी मन चहक सा गया
*
*************************
-सुरेन्द्रपाल वैद्य

Like Comment 0
Views 12

You must be logged in to post comments.

Login Create Account

Loading comments
Copy link to share