" महक ले रही जमुहाई " !!

कलिकाओं ने रंगत बदली ,
ली बसंत ने अँगड़ाई !!

है बयार का रुख बदला सा ,
बदल गये हैं सुर सारे !
भेज रही महके संदेशे ,
जैसे पहुँचे हरकारे !!
सरगोशी कर छू जाये है ,
कर ली उसने भरपाई !!

धरणी ने आँचल फैलाया ,
रंग खिले , बूटे बूटे !
महक रहे हैं बाग बगीचे ,
हैं अनंग के शर छूटे !
कोना कोना हुआ सुवासित ,
महक ले रही जमुहाई !!

हाथों में अब हाथ थमे हैं ,
सात जनम के हैं वादे !
कहीं जागती कसक अनूठी ,
सूने से हैं जगराते !
कहीं सरकता , उड़ता आँचल ,
लगे बहारें शरमाई !!

गीत मधुर है , मधुर लबों पर ,
थिरकी गालों पर लाली !
रंग चढ़ा बासंती ऐसा ,
अँखियाँ मद से मतवाली !
यहाँ वहाँ है चमक कनक सी ,
धरा लगे है बल खाई !!

स्वरचित / रचियता :
बृज व्यास
शाजापुर( मध्यप्रदेश )

Like 1 Comment 0
Views 2

You must be logged in to post comments.

Login Create Account

Loading comments
Copy link to share
Sahityapedia Publishing