.
Skip to content

महक बाकी भी तक है

बसंत कुमार शर्मा

बसंत कुमार शर्मा

गज़ल/गीतिका

December 24, 2016

छुआ था जुल्फ को तेरी, महक बाकी अभी तक है
पुरानी उस मुहब्बत की, कसक बाकी अभी तक है

छनन छन पायलों की सुन, जगा हूँ ख्वाव में हर पल
तुम्हारी चूड़ियों की वो, खनक बाकी अभी तक है

पुरानी हो गयी है अब, भले ही डाल फूलों की
मगर वो बचपने वाली, लचक बाकी अभी तक है

अमावस रात थी लम्बी, अँधेरे से लड़ा दम भर
दिया बुझने लगा लेकिन, चमक बाकी अभी तक है

जमी तो है जरा सी राख उस अंगार पर, लेकिन
कहीं अन्दर धधकती वो, लहक बाकी अभी तक है

निगाहें हट नहीं पाती, कहाँ तक रास्ते बदलें
तुम्हारे घर को’ जाती जो, सड़क बाकी अभी तक है

Author
बसंत कुमार शर्मा
भारतीय रेल यातायात सेवा (IRTS) में , जबलपुर, पश्चिम मध्य रेल पर उप मुख्य परिचालन प्रबंधक के पद पर कार्यरत, गीत, गजल/गीतिका, दोहे, लघुकथा एवं व्यंग्य लेखन
Recommended Posts
इस शहर में क़याम बाकी है
इस शहर में क़याम बाकी है कुछ अधूरा सा काम बाकी है गुफ़्तगू सबसे हो गयी मेरी सिर्फ उनका सलाम बाकी है इक शजर पे... Read more
यादें।
पूछना उन दरख्तों औऱ झीलों झरनों से गुजरोंगें जब तुम उस राहों से तेरी यादों के वहीं निशान बाकी हैं। हमारी सिसकियों से वो भी... Read more
गज़ल :-- जो आज भी उसमें गुमान बाकी है ॥
ग़ज़ल :-- जो आज भी उसमें गुमान बाकी है !! बहर :-- 2212 2212 1222 जो आज भी उसमें गुमान बाकी है ।, नातों का... Read more
सलाम  आया  है अभी  पैग़ाम बाकी  है
सलाम आया है अभी पैग़ाम बाकी है उठा नहीं अभी तक वो गाम बाक़ी है तबीयत हो कि मौसम बिगड़ ही जाता है इनकी भी... Read more