Mar 20, 2021 · दोहे
Reading time: 1 minute

महँगा है पेट्रौल

महँगा है पेट्रौल
■■■■■■■
गैस सिलिंडर ही नहीं, महँगा है पेट्रौल।
चूल्हा ठंडा है पड़ा, खून रहा है खौल।।

डीजल महँगा हो गया, सरसो का भी तेल।
बोलोगे तो साथियों, काटोगे तुम जेल।।

राजनीति का हाय रे, कैसा है यह खेल।
बेंच रहे हैं देश को, लगा हुआ है सेल।।

रोज़गार की बात पर, हर कोई है मौन।
बिकी हुई है मीडिया, बोलेगा फिर कौन।।

अच्छे दिन की आस में, हुए स्वप्न हैं चूर।
कहीं कृषक हैं कष्ट में, और कहीं मजदूर।।

– आकाश महेशपुरी
दिनांक- 19/03/2021

2 Likes · 4 Comments · 256 Views
आकाश महेशपुरी
आकाश महेशपुरी
243 Posts · 47.7k Views
Follow 39 Followers
संक्षिप्त परिचय : नाम- आकाश महेशपुरी (कवि, लेखक) मूल नाम- वकील कुशवाहा जन्मतिथि- 15 अगस्त... View full profile
You may also like: