.
Skip to content

मशविरा है मिरा…..

तेजवीर सिंह

तेजवीर सिंह "तेज"

गज़ल/गीतिका

January 30, 2017

???? ग़ज़ल ????
बह्र – 212-212-212-212
(फायलुन फायलुन फायलुन फायलुन)

मशविरा है मिरा आमजन के लिए।
वक़्त पर वक़्त दो तुम वतन के लिए।

रोजी-रोटी कमाना ज़रूरी मगर।
एक पल तो निकालो भजन के लिए।

आपाधापी में क्यों दिल जलाते फिरो।
दो घड़ी तो जिओ तुम सजन के लिए।

धन कमाने को कितने चुने रास्ते।
एक कोशिश करो उर शमन के लिए।

वारिसों के लिए तो तिजोरी भरी।
कुछ करो प्यारे अपने वतन के लिए।

है शहीदों ने सींचा इसे खून से।
तुम पसीना ही दे दो चमन के लिए।

भारती पर अगर तुम निछावर हुए।
तो तिरंगा मिलेगा कफ़न के लिए।

जान जाये मगर शान जाये नहीं।
सर कटा देना रक्षा वचन के लिए।

“तेज”तूफानों में जो डटा रह सके।
वो दिया बन जलो तम हरन के लिए।
~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~
तेजवीर सिंह ‘तेज’

Author
तेजवीर सिंह
नाम - तेजवीर सिंह उपनाम - 'तेज' पिता - श्री सुखपाल सिंह माता - श्रीमती शारदा देवी शिक्षा - एम.ए.(द्वय) बी.एड. रूचि - पठन-पाठन एवम् लेखन निवास - 'जाट हाउस' कुसुम सरोवर पो. राधाकुण्ड जिला-मथुरा(उ.प्र.) सम्प्राप्ति - ब्रजभाषा साहित्य लेखन,पत्र-पत्रिकाओं... Read more
Recommended Posts
जान को मेरी....
??? ग़ज़ल ??? बह्र - 212 - 212 - 212 - 212 ?????????? जान को मेरी अब यूँ निकालो न तुम। आज सीने से मुझको... Read more
के लिए
गजल की शक्ल में कलम घिसाई 212 212 212 212 कौन डरता यहाँ निज कफन के लिए। चाहिए मौत हमको वतन के लिए।**0** राज सुखदेव... Read more
ग़ज़ल
काफ़िया-आते रदी़फ-रहे वज़्न-212 212 212 212 ? ग़ज़ल ? वक्त के हाथ हम बेचे जाते रहे। इस तरह साँस अपनी चलाते रहे। रोज होता रहा... Read more
ग़ज़ल
काफ़िया-आते रदी़फ-रहे वज़्न-212 212 212 212 ? ग़ज़ल ? वक्त के हाथ हम बेचे जाते रहे। इस तरह साँस अपनी चलाते रहे। रोज होता रहा... Read more