* मर्द *

मर्द कभी नारी को बेइज्जत नहीं करते ।
अपनी माँ की कोख को शर्मसार नहीं करते ।।
मर्द होने का दावा तो बहुत से लोग करते हैं ।
मर्द वही जो नारी पर अत्याचार नहीं करते ।।

मर्द हो तो मर्दानगी का हक़ अदा करो ।
नारी के हिस्से का सम्मान अदा करो ।।
झूठे दिखावे से कोई मर्द नहीं बन जाता ।
मर्द हो तो नारी के दूध का कर्ज अदा करो ।।

झूठा रौब दिखाना कहाँ की मर्दानगी है ?
कमजोर को दबाना कहाँ की मर्दानगी है ?
मर्द हो तो नारी को सुरक्षा प्रदान करो ।
खेलना नारी की इज्जत से कहाँ की मर्दानगी है ?

Like 3 Comment 2
Views 637

You must be logged in to post comments.

Login Create Account

Loading comments
Copy link to share