* मर्द *

मर्द कभी नारी को बेइज्जत नहीं करते ।
अपनी माँ की कोख को शर्मसार नहीं करते ।।
मर्द होने का दावा तो बहुत से लोग करते हैं ।
मर्द वही जो नारी पर अत्याचार नहीं करते ।।

मर्द हो तो मर्दानगी का हक़ अदा करो ।
नारी के हिस्से का सम्मान अदा करो ।।
झूठे दिखावे से कोई मर्द नहीं बन जाता ।
मर्द हो तो नारी के दूध का कर्ज अदा करो ।।

झूठा रौब दिखाना कहाँ की मर्दानगी है ?
कमजोर को दबाना कहाँ की मर्दानगी है ?
मर्द हो तो नारी को सुरक्षा प्रदान करो ।
खेलना नारी की इज्जत से कहाँ की मर्दानगी है ?

4 Likes · 4 Comments · 792 Views
*Writer* & *Wellness Coach* ---------------------------------------------------- मकसद है मेरा कुछ कर गुजर जाना । मंजिल मिलेगी...
You may also like: