Skip to content

* मर्द *

Neelam Ji

Neelam Ji

कविता

June 16, 2017

मर्द कभी नारी को बेइज्जत नहीं करते ।
अपनी माँ की कोख को शर्मसार नहीं करते ।।
मर्द होने का दावा तो बहुत से लोग करते हैं ।
मर्द वही जो नारी पर अत्याचार नहीं करते ।।

मर्द हो तो मर्दानगी का हक़ अदा करो ।
नारी के हिस्से का सम्मान अदा करो ।।
झूठे दिखावे से कोई मर्द नहीं बन जाता ।
मर्द हो तो नारी के दूध का कर्ज अदा करो ।।

झूठा रौब दिखाना कहाँ की मर्दानगी है ?
कमजोर को दबाना कहाँ की मर्दानगी है ?
मर्द हो तो नारी को सुरक्षा प्रदान करो ।
खेलना नारी की इज्जत से कहाँ की मर्दानगी है ?

Author
Neelam Ji
मकसद है मेरा कुछ कर गुजर जाना । मंजिल मिलेगी कब ये मैंने नहीं जाना ।। तब तक अपने ना सही ... । दुनिया के ही कुछ काम आना ।।
Recommended Posts
नारी
औरत ने जन्म दिया मर्द को,कभी किया न अभिमान मर्द ने जाने कब जन्मा ,मर्द होने का भान जन्मा,सींचा रक्त से अपने,दिखाया ये संसार उसी... Read more
पीट कर मुझे तुम मर्द बनते हो
पीट कर मुझे तुम मर्द बनते हो, तनते हो मेरे ही सामने, भूल गए उन वचनों को दिए थे जब आये थे हाथ थामने। असली... Read more
नारी तुम अपनी पहचान करो ।
नारी तुम अपनी पहचान करो । उठकर अपना सम्मान करो । अबला नहीं तुम तो सबला हो शक्ति हो तुम ये तो ध्यान करो। नारी... Read more
नारी का उत्थान
अन्तर्राष्ट्रीय महिलादिवस की हार्दिक बधाई नारी के उत्थान में, है नारी का हाथ देना होगा खुद उसे, नारी का ही साथ अपनी ताकत को यहाँ... Read more