मर्ज-ए-इशक

ना मुझे राम ना मुझे रहीम चाहिए
ना नमक फिटकरी या नीम चाहिए
मरीज हो गया हूँ मर्ज-ए-इश्क का
टूटे दिल का करदे जो इलाज
मुझे एैसा बस एक हकीम चाहिए

Like Comment 0
Views 131

You must be logged in to post comments.

Login Create Account

Loading comments
Copy link to share
Sahityapedia Publishing