Jul 2, 2016 · कविता
Reading time: 1 minute

मर्ज-ए-इशक

ना मुझे राम ना मुझे रहीम चाहिए
ना नमक फिटकरी या नीम चाहिए
मरीज हो गया हूँ मर्ज-ए-इश्क का
टूटे दिल का करदे जो इलाज
मुझे एैसा बस एक हकीम चाहिए

2 Comments · 177 Views
Copy link to share
Dr ShivAditya Sharma
19 Posts · 4.6k Views
Follow 3 Followers
Consultant Endodontist. Doctor by profession, Writer by choice. बाकी तो खुद भी अपने बारे में... View full profile
You may also like: