.
Skip to content

मरे दशानन को कबतक मारोगे?

पं.संजीव शुक्ल सचिन

पं.संजीव शुक्ल सचिन

कविता

October 10, 2017

मैं पूछता हूँ क्या प्रति वर्ष
कागजी पुतले पर कमान साधोगे,
कब तक मरे दशानन को युहीं
तुम बार – बार मारोगे।
क्रोध, कपट, ईर्ष्या, लिए जो
तेरे आगे – पीछे डोलते है
बीच राह नारी अस्मत का
बन्धन निर्बाध्य ये खोलते है
तुम अपने बीच छुपे इन रावणों को कब मारोगे
कब तक मरे दशानन को युहीं
तुम बार – बार मारोगे।
जो थे तब ब्रम्हचारी
आज बन बैठे दुराचारी,
जिन्हें माना सदाचारी
आज वहीं दिखे व्याभिचारी।
इनके इस आचरण को
आखिर कब संहारोगे?
कब तक मरे दशानन को युहीं
तुम बार बार मारोगे।
आज तुम्हारे राज्य में
सुपनखाये छा रही है,
लखन लाल के डर से सीता
अपना नाक बचा रही है।
ऐसे इन लखनों को छोड़
कब तक हमसे बैर निभाओगे?
कब तक मरे दशानन को युहीं
तुम बार – बार मारोगे।
©®पं.संजीव शुक्ल “सचिन”

Author
पं.संजीव शुक्ल सचिन
मैं पश्चिमी चम्पारण से हूँ, ग्राम+पो.-मुसहरवा (बिहार) वर्तमान समय में दिल्ली में एक प्राईवेट सेक्टर में कार्यरत हूँ। लेखन कला मेरा जूनून है।
Recommended Posts
मुक्तक
तुम बार बार नजरों में आया न करो! तुम बार बार मुझको तड़पाया न करो! जिन्दा है अभी जख्म गमें-बेरुखी का, तुम बार बार दर्द... Read more
!! तेरी याद !!
आज तेरी याद आ गयी पास मेरे हम उस को सीने से लगा कर बहुत रोये जब वो याद को थोडा सकूंन मिला तो हम... Read more
***  आप वही हैं जो है ***
15.7.17 ** दोपहर ** 2.45 आप वही हैं,जो है,फिर क्यों डरते हो डरते हो,फिर इतना क्यों मुझपे मरते हो दिल फैंक-फैंक,फेक मुझे क्यों करते हो... Read more
तुम आ जाओ
कब होंगे मन के खेत हरे, कैसे अब विरह के घाव भरे, कब सुनाई देंगे खुशियों के गीत , कब मिलेगा मेरा प्यारा मीत, कितने... Read more