.
Skip to content

मरती धरती

राजेश

राजेश"ललित" शर्मा

कविता

August 12, 2017

वैज्ञानिकों के बार बार चेतावनी देने के पश्चात् भी पर्यावरण में सुधार होने की बजाय हानि ही हो रही है ,जिससे धरती पर जीवन को ख़तरा हो गया है।पानी ,जंगल सब धीरे धीरे समाप्त हो रहे हैं।इसी को ध्यान में रख रची एक कविता:-
————————-
“मरती धरती”
————————
जब तक हम
फ़ैसला करेंगे
कौन होगा अधिपति?
नदियाँ सूख जायेंगीं
पहाड़ दरक जायेंगें
सड़कों तक सरक जांयेंगे
पेड़ों के ठूँठ
निकल आयेंगें
सूखे पते जीभ निकाल
जंगलों का मूँह चिढ़ायेंगें।

यूँ ही घूमेगी धरती
सुस्त होते सूरज के
चारों और भागेगी
हाँफते हाँफते थकेगी
साँस भी कहाँ ले पायेगी?
कैसे जान बचायेगी धरती?

राजा लोग ठहरायेंगे
जनता को क़सूरवार
धर्म के ठेकेदार
किसको आवाज़ दें
किसको उचारें
सब अब भी चुप हैं
तब भी चुप रहेंगे

छाँटो सब अपना “वाद”
ढूँढो कोई केन्स कोई मार्क्स
मरी हुई धरती
जीवित कोई अपवाद
धनी तो ढूँढ लेंगें
लाखों प्रकाश वर्ष दूर ग्रह
करेंगें नये युग प्रारंभ वहाँ

फूटेगा नवांकुर फिर
यहीं धरती पर
शुरु होगा सतयुग
रचे जायेंगे नये देवता
मरी हुई धरती
जीवंत होगी फिर
चक्र यूँ ही चलता रहेगा
धरती मरेगी जीयेगी
बार बार हर बार
————————-
राजेश”ललित”शर्मा

Author
राजेश
मैंने हिंदी को अपनी माँ की वजह से अपनाया,वह हिंदी अध्यापिका थीं।हिंदी साहित्य के प्रति उनकी रुचि ने मुझे प्रेरणा दी।मैंने लगभग सभी विश्व के और भारत के मूर्धन्य साहित्यकारों को पढ़ा और अचानक ही एक दिन भाव उमड़े और... Read more
Recommended Posts
वैज्ञानिक रस में डूब कर आधुनिक उन्नति खूब कर वह (प्रकृति) का शासक बन बैठा भौतिक सुखों की होड़ में वाहनों की दौड़ में वह... Read more
आत्मकथा
न ये कविता है न ये कहानी है , ये सच्चाई है कुछ साल पुरानी है ,, मै कन्जूश हू , बहुत मक्खी चूस हू... Read more
मैं नेता बनूंगा  -- कविता--- हास्य व्यंग
मैं नेता बनूंगा एक दिन बेटे से पूछा ;बेटा क्या बनोगे?: कौन सा प्रोफेश्न अपनाओगे,किस राह पर जाओगे वह थोडा हिचकिचाया,फिर मुस्कराया और बोला मैं... Read more
झुलस
धरती के झुलसते आँचल को अम्बर ने आज भिगोया है झूम उठे वायु संग तरुवर बूंदों में शीत पिरोया है ये महज़ एक झांकी है... Read more