मम्मी की मम्मा वो धरती है नानी

आज अपने बच्चो से क्यों डरती है नानी ?
शुबह शुबह काम क्यों करती है नानी ?

सीने से लगाकर अपने बच्चो को पाला ,
आज अपने घर में क्यों सरती है नानी ?

गुटनो में तेज दर्द हो रही आँख अंधी ,
किसी से कुछ क्यों नही कहती है नानी ?

मिला जब मै उससे ह़ाल ए दिल सुनाई ,
बुढ़ापे में क्यों जुल्म सहती है नानी ?

जोड़कर तिनका उसने गृहस्ती बसाई ,
डरी सहमी हुई सी क्यों रहती है नानी ?

बहू बेटे की बातो को हँस के वो टाले ,
पानी के जैसे क्यों बहती है नानी ?

लड़के नाती पोता से पूरा घर भरा है ,
माँ बूढ़ी कुएँ से क्यों भरती है पानी ?

यारो सबकुछ सहन कर समेटे हुए है ,
मम्मी की मम्मा वो धरती है नानी !!

प्रभु से कह रहा रो रोकर के जुगनू ,
चन्दन देसी घी से क्यों जलती है नानी ?

28 Views
love is life
You may also like: