मन

सादर नमन आज के प्रयास से बने छंद।
छन्द—- विमोहा (मपनीयुक्त वर्णिक)
मापनी—212 212
??????
मन
***********
बावला हो गया।
सोचता ही गया।
चित्त मेरे बता।
हो गई क्या खता।
———————–
मेल खाता नहीं।
देह से तू कहीं।
मान जा शांत हो।
चित्त चिंता कहो।
————————-
मुश्किलों में कहीं।
साथ देता नहीं।
तोडना संग है।
चित्त से अंग है।
————————-
लूटता चैन है।
जागता रैन है।
चित्त से हांपती।
देह है कांपती।
———————–
ठान मैंने लिया।
बैर यूँ है किया।
बांधना चित्त है।
प्रेम की भित्त है।

Like Comment 0
Views 8

You must be logged in to post comments.

Login Create Account

Loading comments
Copy link to share