.
Skip to content

मन

Kokila Agarwal

Kokila Agarwal

कविता

January 24, 2017

कभी सोचो कि
पल दो पल जियें
खुद के लिये यारो
कभी सोचो कि
कोई हो जहाँ
न हो कोई नज़र यारो
कभी सोचो कि
सोचो से भी
मिल जाये छुटकारा
कभी सोचो कि
न हो धूप हवा
और अंधेरा यारो
हंसो मत
ऐसी सोचो पर
है मुमकिन
ये मेरा मन है
जहां न कोई छुअन
अहसास न
बस मेरा ही
मन है।

Author
Kokila Agarwal
House wife, M. A , B. Ed., Fond of Reading & Writing
Recommended Posts
कभी ये भी सोचो
Sonu Jain कविता Oct 27, 2017
?कभी ये भी सोचो? सड़क किनारे बैठे उस, भिखारी की भी तो सोचो,,, क्यू बैठा है वो,, मजबूर ए हालात,, कभी ये भी तो सोचो,,... Read more
कभी कोई कभी कोई
जलाता है बुझाता है कभी कोई कभी कोई। मेरी हस्ती मिटाता है कभी कोई कभी कोई।।1 बुरा चाहा नहीं मैनें जहाँ में तो किसी का... Read more
कभी लेखनी कहती है ।
कभी कभी कागज कहता है , कभी लेखनी खुद कहती है आज तुम्हें कुछ लिखना हैं । नही आ रहा तो सिखना है । कभी... Read more
ये मेरा मन
कविता.....रोला छंद में .............कविता..."ये मेरा मन"... सावन सरीखा मन,प्यार बरसाए जाए। धरती यौवन पर,घना है ये ललचाए। बूँद-बूँद मद भरे,हिय मस्ती ले समाए। पागल हो... Read more