.
Skip to content

मन

Pankaj Trivedi

Pankaj Trivedi

कविता

January 20, 2017

मन – पंकज त्रिवेदी
**

मन !
ये मन है जो कितना कुछ सोचता है
क्या क्या सोचता है और क्या क्या
दिखाते हैं हम…

मन !
जो भी सोचता है वो न हम कहते हैं
न वोही सोचते हैं जो हम कह देते हैं
छलते हैं हम…

मन !
कभी हमें आनंद देता है हमारे झूठ के लिए
कभी हमें ही कोसता रहता है झूठ के लिए
ठगते हैं हम…

मन !
ऐसा भी हों कि जो चाहें वोही कहते हैं हम
जो सोचें वो अच्छा हों और उसी को सुनें हम
सुनते हैं हम…

मन !
कभी अपने दिल की बात मानता है तो कभी
किसीके बहकावे में आकर कुछ भी कर देते हैं
कर देते हैं हम…

मन !
यही मन है जो दिन-रात सपने दिखाता है
यही मन है जो सपनों से ज़िंदगी सजाता है
ज़िंदगी बनाते हैं हम…

मन !
मन ही हमें भटकने को मजबूर करता है तो
मन ही हमें कुसंग से सत्संग करवाता है और
इंसान बन जाते हैं हम…

मन !
मन चल है, अचल भी है मन ही मरकट है
मन ही पहचान है, मन साधना का साधन
मन ही है तो है हम….

*______________________*

Author
Pankaj Trivedi
संपादक : विश्वगाथा (हिन्दी साहित्य की अंतर्राष्ट्रीय त्रैमासिक मुद्रित पत्रिका) / लेखन- कविता, कहानी, लघुकथा, निबंध, रेखाचित्र, उपन्यास ।
Recommended Posts
हम क्या एहसान कोई करते हैं ?
झूठ में शान कोई करते हैं हम क्या एहसान कोई करते हैं उस के दर कुछ भी दिया, तो माँगा सिर्फ़ न कि दान कोई... Read more
रमेशराज के चर्चित राष्ट्रीय बालगीत
बाल-गीत || हमें वतन प्राणों से प्यारा || -------------------------------------- भारत की क्यारी-क्यारी पर इसकी महकी फुलवारी पर, इसके खेतों, खलिहानों पर इसकी मोहक मुस्कानों पर,... Read more
*** दीवाने हो गये हैं हम  ****
दीवाने हो गये हैं हम दीवाने हो गये हैं हम नहीं हैं हम किसी से कम जहां में दौलते हैं कम नहीं हैं अब किसी... Read more
जो हो रहा है होने दो
मुझे जिंदगी से शिकवा नहीं, जो हो रहा है वो होने दो, हम शायद किसी काबिल नहीं, जो खो गया वो खोने दो। आखिर खिजाएँ... Read more