मन मथुरा तन वृन्दावन

?मन मथुरा,तन वृन्दावन?

मन मथुरा बना ले
कान्हा को फिर बुला ले
मोह बंधन की बेड़ी
रे झट कट जायेगी|
गले गोकुल सजा ले
कान्हा को फिर बुला ले
माखन मिश्री सी
कथन घुल जायेगी
वृन्दावन घर बना ले
कान्हा को फिर बुला ले
बंशी की मधुर धुन
जीवन बन जायेगी|
बरसाना मन बसा ले
राधा को फिर बुला ले
प्रीत सच्ची की मन में
लगन लग जायेगी|
तन मन्दिर बना ले
प्रभु को मन बसा ले
जन्मों की प्रतीक्षा
सफल हो जायेगी|
✍हेमा तिवारी भट्ट✍

1 Comment · 185 Views
लिखना,पढ़ना और पढ़ाना अच्छा लगता है, खुद से खुद का ही बतियाना अच्छा लगता है,...
You may also like: