.
Skip to content

मन को शन्ति

Bijender Gemini

Bijender Gemini

लघु कथा

February 13, 2017

मैं मन्दिर जा रहा हूँ। सामने से मेरा मित्र आहुजा मिल जाता है वह बोला- मन्दिर से आप को क्या मिला ?
         मैं सोच में पड़ गया और कुछ सोचने के बाद बोला- मुझे बहुत कुछ मिला है।
          – क्या मिला है साफ – साफ बताओ !
           – मुझे भगवान तो नहीं मिले है परन्तु मन को शन्ति अवश्य मिलती है जो मेरे मन के तनाव को दूर करती है।
– बीजेन्द्र जैमिनी

Author
Bijender Gemini
कवि, लेखक, पत्रकार, समीक्षक पताः हिन्दी भवन, 554-सी, सैक्टर-6, पानीपत-132103, हरियाणा, भारत मो.919355003609
Recommended Posts
*** मैं जिसे पसन्द हूं ***
बहुत बार मन में ऐसा ख्याल आता है कि मै जिसे पसन्द हूँ उसे में मिला नही मगर मुझे वो पसन्द है मुझे अब भी... Read more
मेरी कश्ती को न किनारा मिला
मुझे उनके खत का लिफाफा मिला जो देखा वरक सारा सादा मिला ?? हुए रूबरू ---------ये शिकायत लिए मुझे उल्टे उनसे ---ही शिकवा मिला ??... Read more
काश........  !
मन का तिमिर दूर हो हृदय में उजियारा रहे । मैं तेरा प्यारा रहूॅ तू मुझे प्यारा रहे । चलो हर पथ को रौशन करें... Read more
बेटी का अरमान
मिला मुझे एक कोरा कागज़ मैं उसपर अरमान लिखूंगी कलम प्यार में डुबा डुबाकर उस पर सारा संसार लिखूंगी गीत लिखूंगी अनुभव का मैं शब्दों... Read more