Skip to content

मन को तू मार कर

Anuj yadav

Anuj yadav

कविता

March 4, 2017

मन को तो मार कर
तन पर प्रहार कर
जीवन जीने के लिए
कर्तव्य कार्य कर
जो तुम पा ना सके
उस पर ना वक्त बर्बाद कर
मेहनत कर जी तोड़कर
उज्जवल भविष्य का निर्माण कर

Recommended
आस!
चाँद को चांदनी की आस धरा को नभ की आस दिन को रात की आस अंधेरे को उजाले की आस पंछी को चलने की आस... Read more
ये माना घिरी हर तरफ तीरगी है
ये माना घिरी हर तरफ तीरगी है मगर छन भी आती कहीं रोशनी है न करती लबों से वो शिकवा शिकायत मगर बात नज़रों से... Read more
Author
Anuj yadav
I am a student in class 11th writing is my hobby. I live pukhrayan in Up