दोहे · Reading time: 1 minute

मन के मोर

मै अक्सर झाँका करूँ, अंतर मन की ओर।
शोर मचाते है जहाँ, मेरे मन के मोर।।
-वेधा सिंह

23 Views
Like
60 Posts · 2.3k Views
You may also like:
Loading...