लघु कथा · Reading time: 2 minutes

मन के भाव

सत्यकथा
********
मन के भाव
~~~~~~
एक अप्रत्याशित सत्य घटना के अनुसार बात शायद नवंम्बर 2001 की बात है।
उस समय मैं उ.प्र.परिवहन निगम गोण्डा डिपो में परिचालक के रूप में कार्यरत था।एक दिन जब मैं बस परिचालन करते हुए गोण्डा से सुल्तानपुर जा रहा था।भीषण ठंड हल्का कोहरा उस दिन था।जब हमारी बस कटरा रेलवे स्टेशन के सामने से गुजर रही कि तभी अचानक 21-22 साल के दो युवा काफी तेजी से ओवरटेक करते हुए बायीं ओर से निकले, अचानक से उनका इस तरह इतनी तेजी से निकलना मुझे डरा सा गया।पल भर में ही वह आँखो से ओझल हो गये।इस तरह का सामना हमारे लिए कोई नयी बात नहीं थी,परंतु आज जाने क्यों मेरा मन किसी अप्रत्याशित अनहोनी की चेतावनी दे रहा था।मेरे मन में भी बुरा ख्याल आया कि कहीं इनके साथ कोई हादसा न हो जाय।तब तक मेरी बस अयोध्या पुल से थोड़ा पहले पहुंच गई, हमारे चालक ने बस की रफ्तार कम की तो मैनें देखा की एक बाइक मैटाडोर से पीछे से भिड़ी हुई है और वही दो युवा पड़े हैं,शायद मृत।कुछ पलों के लिए तो मैं स्तब्ध हो गया।तब तक मेरी बस नये घाट अयोध्या बस स्टेशन पर पहुंची चुकी थी।ये सब बमुश्किल 7-8 मिनट में ही हो गया।
आज भी जब वो घटना याद आती है तो ये सोचकर मन हिल जाता है कि मन में अचानक आये भाव भी तुरंत सच भी हो जाते हैं।
परंतु ये समझ नहीं आता कि मन में आये बुरे भाव ही इतनी जल्दी सच कैसे हो जाते हैं?शायद ही इसका उत्तर मिले।
,🖋सुधीर श्रीवास्तव

2 Likes · 4 Comments · 49 Views
Like
Author
767 Posts · 26.8k Views
संक्षिप्त परिचय ============ नाम-सुधीर कुमार श्रीवास्तव (सुधीर श्रीवास्तव) जन्मतिथि-01.07.1969 शिक्षा-स्नातक,आई.टी.आई.,पत्रकारिता प्रशिक्षण(पत्राचार) पिता -स्व.श्री ज्ञानप्रकाश श्रीवास्तव माता-स्व.विमला देवी धर्मपत्नी,-अंजू श्रीवास्तवा पुत्री-संस्कृति, गरिमा संप्रति-निजी कार्य स्थान-गोण्डा(उ.प्र.) साहित्यिक गतिविधियाँ-विभिन्न विधाओं की रचनाएं कहानियां,लघुकथाएं…
You may also like:
Loading...