मन की बाते

आवश्यक सूचना

(यह राजनितिक हालातो के परिपेक्ष्य पर लिखी गयी है इसका किसी व्यक्ति विशेष से कोई सम्बन्ध नहीं है )

(मन की बाते)

कभी जनता को मन की बातों से बहला रहे है ।
कभी दुनिया को धन की बातों में टहला रहे है ।।

क्या कहे शख्सियत वतन वजीर-ए-आला की।
भाई सरीखे को भी रेनकोट में नहला रहे है ।।

कौन नही वाकिफ अंदाज-ऐ -बया से इनके ।
नोटों के मार तमाचें मीठी बातो से सहला रहे है ।।

अगर होते है दलदल-ऐ-हमाम में सभी नंगे ।
फिर खुद को कैसे पाक साफ बतला रहे है।।

देखना है हाल-ऐ-हिन्द तो गाँवों में जाकर देखो।
क्यों शहरी आबोहवा आमजन को दिखला रहे है ।

वतन तो आज भी कैद है चंद लोगो की मुट्ठी में।
बना के खिलौना इस हाथ से उस हाथ झुला रहे है।

राजनीति के हालात आज तुमने कैसे बना डाले ।
काम से ज्यादा जनता को वादों में टहला रहे है ।।

सजता है कभी ताज इनके सर कभी उनके सर ।
आमजन को आज भी खून के आंसू रुला रहे है।।

कोई करे इत्तेफाक या न करे जमीनी हकीकत से
समझ के कर्म “धर्म” आज सच को दिखला रहे है।।



डी के निवातिया

2 Likes · 3 Comments · 489 Views
नाम: डी. के. निवातिया पिता का नाम : श्री जयप्रकाश जन्म स्थान : मेरठ ,...
You may also like: