.
Skip to content

मन की बाते

डी. के. निवातिया

डी. के. निवातिया

गज़ल/गीतिका

March 1, 2017

आवश्यक सूचना

(यह राजनितिक हालातो के परिपेक्ष्य पर लिखी गयी है इसका किसी व्यक्ति विशेष से कोई सम्बन्ध नहीं है )

(मन की बाते)

कभी जनता को मन की बातों से बहला रहे है ।
कभी दुनिया को धन की बातों में टहला रहे है ।।

क्या कहे शख्सियत वतन वजीर-ए-आला की।
भाई सरीखे को भी रेनकोट में नहला रहे है ।।

कौन नही वाकिफ अंदाज-ऐ -बया से इनके ।
नोटों के मार तमाचें मीठी बातो से सहला रहे है ।।

अगर होते है दलदल-ऐ-हमाम में सभी नंगे ।
फिर खुद को कैसे पाक साफ बतला रहे है।।

देखना है हाल-ऐ-हिन्द तो गाँवों में जाकर देखो।
क्यों शहरी आबोहवा आमजन को दिखला रहे है ।

वतन तो आज भी कैद है चंद लोगो की मुट्ठी में।
बना के खिलौना इस हाथ से उस हाथ झुला रहे है।

राजनीति के हालात आज तुमने कैसे बना डाले ।
काम से ज्यादा जनता को वादों में टहला रहे है ।।

सजता है कभी ताज इनके सर कभी उनके सर ।
आमजन को आज भी खून के आंसू रुला रहे है।।

कोई करे इत्तेफाक या न करे जमीनी हकीकत से
समझ के कर्म “धर्म” आज सच को दिखला रहे है।।



डी के निवातिया

Author
डी. के. निवातिया
नाम: डी. के. निवातिया पिता का नाम : श्री जयप्रकाश जन्म स्थान : मेरठ , उत्तर प्रदेश (भारत) शिक्षा: एम. ए., बी.एड. रूचि :- लेखन एव पाठन कार्य समस्त कवियों, लेखको एवं पाठको के द्वारा प्राप्त टिप्पणी एव सुझावों का... Read more
Recommended Posts
मन
कभी कभी तन्हाई भी खूबसूरत लगती है और कभी किसी के साथ को मन बेकरार होता है,कभी कभी मन ओढ़ लेता है नक़ाब बेसाख्ता और... Read more
मन
मन - पंकज त्रिवेदी ** मन ! ये मन है जो कितना कुछ सोचता है क्या क्या सोचता है और क्या क्या दिखाते हैं हम...... Read more
मन
मन से मन के दीप जला लो मन से मन को फिर महका लो मन से मन का मेल जो होगा हो जायेगा जग उजियारा..... Read more
ये मेरा मन
कविता.....रोला छंद में .............कविता..."ये मेरा मन"... सावन सरीखा मन,प्यार बरसाए जाए। धरती यौवन पर,घना है ये ललचाए। बूँद-बूँद मद भरे,हिय मस्ती ले समाए। पागल हो... Read more