.
Skip to content

मन की कोई थाह नहीं

श्रीकृष्ण शुक्ल

श्रीकृष्ण शुक्ल

गीत

October 12, 2017

पल में जाता आसमान पे
पल में सपनों की उड़ान पे
सपनों में ही भरे कुलाचें
मन को कुछ परवाह नहीं
मन को कोई जान न पाया
मन की कोई थाह नहीं

आसमान में उड़ता जाए
झोली में तारे भर लाए
सपनों में जो न मिल पाए
ऐसी कोई चाह नही
मन को कोई जान न पाया
मन की कोई थाह नहीं

जीवन की तो राह यही है
सुख दुख के जज्बात यही है
किस ढिग जीवन ले जाएगा
दिखती कोई राह नहीं
मन को कोई जान न पाया
मन की कोई थाह नहीं

सपने तो केवल सपने हैं
जागृत पल ही बस अपने हैं
ध्यान रहे जब ये टूटें तो
मुख से निकले आह नहीं
मन को कोई जान न पाया
मन की कोई थाह नहीं

श्रीकृष्ण शुक्ल, मुरादाबाद

Author
श्रीकृष्ण शुक्ल
सहजयोग, प्रचार, स्वांतःसुखाय लेखक, कवि एवं विश्लेषक.
Recommended Posts
जीवन हैं एक राह
जीवन है एक राह , बस इतनी सी चाह, मिल जाये हमराह, जाे ले मन की थाह, जीवन मे है उलझने, रास्ते है बड़े पथरीले,... Read more
मन
मन --- आंख खोल जब वो मुस्काया प्रथम परिचय बंदिश का पाया जैसे जैसे सम्भला जीवन खुद को तन पिंजरे में पाया देखा चारो ओर... Read more
* सफर जिंदगी का *
Neelam Ji कविता Jun 20, 2017
आसां नहीं सफर जिंदगी का हर पल इम्तेहाँ होता है । दिल जान लगा दे जो अपनी वही इंसान कामयाब होता है । सफर ये... Read more
आँचल का एहसास
माँ ! मुझको याद नही परंतु, ऐसा पल आया होगा। प्रसव-वेदना ने पल-पल हि, तुझको तड़पाया होगा।। पाकर गोदी में मुझको फिर, मन यूँ हर्षाया... Read more