Skip to content

“मन”…….. काजल सोनी

Kajal Soni

Kajal Soni

कविता

March 2, 2017

मन की बातें मन ही जाने,
कोई और समझ न पाये ।
कभी तन्हा,
कभी गुमसुम बैठे ,
कभी तितली बन उड़ जाये।

देख परिंदों की हलचल,
बच्चों के संग बच्चा बनकर,
खुशियों की ये मस्ती में नाचे,
कभी शोर इसे न भाये ।

लगे कभी महीनों न नहाऊं,
कभी छत से टपकती बारिश में,
तर तर भीग जाये ।

कभी रुसवा ,
कभी पागल रहता ,
मोहब्बत कभी ये बरसाये ।

खाने को कभी जी न लागे,
संग यारों के कभी बैठकर,
जुठा भी छीन छपट कर खाये ।

कभी गम की आग में जलता ,
देख तरसता,
और मचलता,
कभी खुद ही समहल ये जाये ।

मन की बातें मन ही जाने ,
कोई और समझ न पाये । ।

” काजल सोनी “

Author
Kajal Soni
Recommended Posts
ग़ज़ल : दिल में आता कभी-कभी
दिल में आता कभी-कभी जग न भाता कभी-कभी । दिल में आता कभी-कभी ।। देख छल-कपट बे-शर्मी,, मन तो रोता कभी-कभी ।। आकर फँसा जहाँ--तहाँ,,... Read more
मन
कभी कभी तन्हाई भी खूबसूरत लगती है और कभी किसी के साथ को मन बेकरार होता है,कभी कभी मन ओढ़ लेता है नक़ाब बेसाख्ता और... Read more
मन
कभी सोचो कि पल दो पल जियें खुद के लिये यारो कभी सोचो कि कोई हो जहाँ न हो कोई नज़र यारो कभी सोचो कि... Read more
कभी लेखनी कहती है ।
कभी कभी कागज कहता है , कभी लेखनी खुद कहती है आज तुम्हें कुछ लिखना हैं । नही आ रहा तो सिखना है । कभी... Read more