.
Skip to content

मन और आत्मा

guru saxena

guru saxena

घनाक्षरी

September 2, 2017

आत्मा ने कहा परमात्मा में ध्यान लगा
मनचाहे और थोड़ा सा रोमांस देख लूं।
आत्मा ने कहा सौ सौ बार देखा छोड़ इसे
मनचाहे और बस एक चांस देख लूं।
आत्मा ने कहा हरि कीर्तन कर नांच
मनचाहे कैबरे सरीखा डांस देख लूं।
भोगना चौरासी लाख तब ये मिलेगी देह
जो कुछ भी देखना है एडवांस देख लूं।

गुरू सक्सेना नरसिंहपुर (मध्य प्रदेश)

Author
guru saxena
Recommended Posts
तेरे ईश्क़ को अपनी अमानत कर लूं
तेरे ईश्क़ को अपनी अमानत कर लूं हसरत तो है के तुझसे मोहब्बत कर लूं ग़म-ए-जहां से कुछ रोज़ सही फुरक़त कर लूं राह-ए-शौक़ से... Read more
वो करेंगे सौ बहाने, देख लेना जी...
वो करेंगे सौ बहाने, देख लेना जी आ रहे हैं फिर लुभाने, देख लेना जी नल, सड़क, बिजली मिलेगी, गाँव वालों को थे यही वादे... Read more
** आँखों से आँसू बन बह लूं **
कह लूं कुछ तो कह लूं आंखों से आंसू बन बह लूं व्यथा-कथा अपनी क्या जानू अब पानी बन बह लूं रख पानी बीती जवानी... Read more
यह ब्रह्मही है आत्मा ,आत्माही है: जितेन्द्र कमल आनंद ( पो १४२)
घनाक्षरी ----------- यह ब्रह्म ही है आक्मा, आत्मा ही ब्रह्म अत: ब्रह्माण्डीय चकुर्दिक विस्तार आत्मा का है । यह आत्मा सम्पूर्ण और आत्मा ही सत्य... Read more