मन अभी उलझा हुआ है

मन अभी उलझा हुआ है ।
गीत का मुखड़ा हुआ है ।।

रात अब तपने लगी है ,
दिन बहुत ठंडा हुआ है ।।

फूट की बुनियाद गहरी ,
लूट का पहरा हुआ है ।।

चमन को कुचला जिन्हौंने ,
उन्हीं का चर्चा हुआ है ।।

ज़रूरत जिसकी सभी को ,
काम वह आधा हुआ है ।।

अधूरा है जहाँ जो भी ,
पूर्ण का दावा हुआ है ।।

बिछा लो अब पलक “ईश्वर”,
मिलन का वादा हुआ है ।।

ईश्वर दयाल गोस्वामी ।

1 Like · 1 Comment · 228 Views
-ईश्वर दयाल गोस्वामी कवि एवं शिक्षक , भागवत कथा वाचक जन्म-तिथि - 05 - 02... View full profile
You may also like: