दोहे · Reading time: 1 minute

“”मनुजता””

(१) सुजनता और सुमनता,मनुजता के प्रमाण।
मनुजता से हीन मनुज,समझो बस निष्प्राण ।।
(२) कुंअर सुँअर में भेद है,
समझे वही सुजान।
इन दोनन में लुप्त है ,
कुमान और सुमान ।।

30 Views
Like
35 Posts · 1.5k Views
You may also like:
Loading...