मनाव के कर्मों की दशा

इस क़दर ढाया ज़ुल्म-ए-कातिले इंसान ने,
गाँव-जंगल से उड़ाये हरे पेड़ ओर घर के तने ।

अब क्यूँ तू पछतावा करता,
क़्या कोई है ऐसा उपाय ।
धूप ग़हरी हो रही यूँ,
जैसे वृक्ष तले मिलती है छाँव ।।

अपने हर सुखः-दुःख का मानव,
कारण किसी और को मानता ।
वृक्ष न रोपे क़भी उसने ज़मीन पर,
जिन्हें वो दिन-रात काटता ।।

मौसम भी लेता है करवट,
पानी मिले न वर्षा ऋतु, शरद ऋतु शीत लहर,
अब क्यूँ मानव है तड़पता,
तू झेल अपने कर्मों का क़हर ।।

सोत जल के यूँ सूख गए,
जैसे गिद्ध हुए कहीं बेनजर ।
प्यासा मरे पँछी यहाँ अब,
सूखी रहे मेरे बचपन की नहर ।।

बाँध सरोवर बन रहे अब,
सिर्फ़ उद्योगों के लिए ।
ख़त्म कर आदिवासी नामों-निशाँ ।
तू “आघात” परेशां किसके लिए ।।

क्या आप अपनी पुस्तक प्रकाशित करवाना चाहते हैं?

साहित्यपीडिया पब्लिशिंग द्वारा अपनी पुस्तक प्रकाशित करवायें सिर्फ ₹ 11,800/- रुपये में, जिसमें शामिल है-

  • 50 लेखक प्रतियाँ
  • बेहतरीन कवर डिज़ाइन
  • उच्च गुणवत्ता की प्रिंटिंग
  • Amazon, Flipkart पर पुस्तक की पूरे भारत में असीमित उपलब्धता
  • कम मूल्य पर लेखक प्रतियाँ मंगवाने की lifetime सुविधा
  • रॉयल्टी का मासिक भुगतान

अधिक जानकारी के लिए इस लिंक पर क्लिक करें- https://publish.sahityapedia.com/pricing

या हमें इस नंबर पर काल या Whatsapp करें- 9618066119

Like 1 Comment 0
Views 30

You must be logged in to post comments.

Login Create Account

Loading comments
Copy link to share