.
Skip to content

मनहरण दंडक छंद (सैनिकों से निवेदन)

guru saxena

guru saxena

घनाक्षरी

July 23, 2017

पाक की मिटाने धाक,आगे बढ़ो काटो नाक,
मारो शाक पर शाक नहीं रहे दीन का।
सिंह से दहाड़ो अरिदल वक्ष फाड़ो, घूम घूम के लताड़ो ताड़ो हर दांव सीन का।
गोलियों की बोलियों में टोलियों मे जोश जगा,
दुश्मनों को दम दिखला दो तेरा तीन का।
भारती के लाल विकराल महाकाल बन,
कर दो बेहाल हाल पाक और चीन का।

Author
guru saxena
Recommended Posts
पाक में पाक क्या होगा.....
पाक में पाक क्या होगा जब इरादे ही नापाक हैं... सियासी चालों और मक्कारी की तू जीती जागती मिसाल है, ताशकंद ,शिमला समझौता तेरे लिये... Read more
अब खैर नही पाक तेरी.....
अब खैर नहीं पाक तेरी तेरे मिटने की बारी है, बहुत हो चुका तेरा आतंक का दंगा हिंदुस्तान से लेकर पंगा मति तेरी मारी है,... Read more
ना खेलो खेल पाक तुम खून का/मंदीप
ना खेलो खेल पाक तुम खून का, सब जगह तुम को खून ही खून नजर आयेगा। बंन्द करो अब अपनी छिछोरी हरकतों को, नही तो... Read more
पाक तेरा क्या होगा अंजाम
क्या होगा अंजाम पाक तेरा क्या होगा अंजाम कोई तेरी औकात नही है कोई सच्ची बात नही है दंभ मे मे भरा दिन रात हो... Read more