Skip to content

मनहरण घनाक्षरी

Sharda Madra

Sharda Madra

कविता

June 24, 2016

पिचकारी धरी हाथ ग्वाले भी है संग साथ राधा की वो पूछे बात द्वार कोई आया है।
राधा करे अन-मन चलो चले मधुबन खेलेंगे न हम होली श्याम ने सताया है।
फिरो न यूँ मारी-मारी वहां भी तो हैं बिहारी पत्ते-पत्ते कण-कण उसकी ही माया है।
राधा खड़ी कर जोरी करना न बरजोरी नेह रंग डाल श्याम गरवा लगाया है।

Author
Sharda Madra
poet and story writer
Recommended Posts
*   गीत:-  ऐ राधा ऐ राधा *
ऐ राधा ऐ राधा तेरे प्यार को मैं अब कौन सा नाम दूं दिल मेरा है तेरा इसे कौन सा नाम दूं ऐ राधा ऐ... Read more
श्याम और राधा (प्रथम बार)
देखत नैना श्याम के, राधा है हरषाय। ऐसे मंजुल सुमन तो, मानस* भी नहिं पाय॥ **************************** हिरदय में हिलोर रही, प्रेम लहरें अपार। वृषभानुजा पूछ... Read more
राधा श्याम
नाम तेरा मेरा क्यू लेते साथ प्रेम से इतराती,रिझाती राधा श्याम से बोली कितना #प्रेम करते मुझसे मुझको जरा बताओ तो नही बोले फिर कुछ... Read more
*कानहा खेले होरी *
कानहा खेले होरी संग राधा गोरी कानहा के हाथ कनक पिचकारी राधा के हाथ अबीर की पोटरी रंग लगायो कानहा ऐसो राधा हो गई मन-मगन... Read more