Skip to content

मनहरण घनाक्षरी / कैसी सरकार है.

Ashok Kumar Raktale

Ashok Kumar Raktale

कविता

June 22, 2016

मेरा भी कहा न माने, तेरा भी कहा न माने,
किसी का कहा न माने, कैसी सरकार है
सुने ये गरीब की ना, सुने ये अमीर की ही,
सुने नहीं बात कोई, जीना दुशवार है
बाजारों के भाव कभी, गाड़ियों का भाडा देखूं.
देखूँ फौज बेकारों की, लम्बी ये कतार है
उस पर भी ये कर, नित-नित नये-नए,
और नए-नए कर, ले के ये तैयार है ||

~ अशोक कुमार रक्ताले.

Author
Recommended Posts
नए नए नित छंद
कलम स्वरूपी पुष्प से ,निकलेगा मकरंद ! यही सोच रचवा रही,..नए नए नित छंद!! करें लेखनी से नही,औरौं का अपमान ! होते है साहित्य के,पंडित... Read more
देती है मुझे मौन वेदना
शब्दों की तराश करता हूँ, गीत नए-नए ही बुनता हूँ, जिन राहों में बिखरे काँटे हों, ऐसी डगर ही चुनता हूँ। है मेरी दु:साध्य साधना... Read more
कौन सुने !
सब ही अपनी कहते हैं यहाँ। कोई किसी को नहीं सुनता। आवाज दब गयी मेरी चीखा चिल्लाया मैं भी था । औरों के मसले कौन... Read more
दुश्मन नए मिले
जब छीनने छुडाने के साधन नए मिले हर मोड़ पर कई-कई सज्जन नए मिले कुछ दूर तक गई भी न थी राह मुड़ गई जिस... Read more