23.7k Members 49.9k Posts

मनभावन सावन


बूँदों का नृत्य
सोंधी मिट्टी महकी
हवा बहकी ।
#####################

मोर मचला
घन गाई गज़ल
नृत्य छलका ।
#######################

मोरनी मोर
घन घटा का शोर
मस्तानी भोर।
########################

कारे बदरा
लताओं का सेहरा
भीगे मनवा।
#########################

स्वाती की बूँदें
आसमान से कूदें
प्यास बुझा दें।

#######################

सावन आया
अवनी मन भाया
संतुष्टि लाया।
अपर्णा थपलियाल”रानू”
८.०७.२०१७

Like Comment 0
Views 508

You must be logged in to post comments.

LoginCreate Account

Loading comments
aparna thapliyal
aparna thapliyal
गाज़ियाबाद
53 Posts · 1.6k Views
देहरादून ,उत्तराखंड के छोटे से गांव डांडा लखोंड में जन्म पाया । पढ़ाई - लिखाई...