.
Skip to content

मधुर मिलन

दुष्यंत कुमार पटेल

दुष्यंत कुमार पटेल "चित्रांश"

कविता

June 29, 2016

शाम रूमानी मौसम है
कोई प्रिया को पयाम दे आये
बैठे है राहगुजर में इंतिजार करते
वो दौड़ती हुई सज-धझ के पास आये

जुल्फ लहराए हँवा में
उनकी चुनर भी उड़ जाये
स्वागत के लिए बादल गरजे
रिमझिम-रिमझिम बरसात हो जाये

वो करीब आके चुनर मुझे ओढ़ाए
प्रित मधुर मिलन यादगार हो जाये
न हो हया आज कोई
दिल से दिल की बात हो जाये

मोर- मोरनी बन हम नाचते रहे
शाम ढल के चाहे रात क्यों न हो जाये
बदरा सावन में भीगते रहे मस्त-मगन
दुनियाँ को आज सारी हम भूल जाये

आ इक दूसरे में समा के आज हम
अपनी अमर प्रेम कहानी लिख जाये
न जियेंगे इक दूसरे के बिन कभी
आ आज हम दिल की धड़कन बन जाये

Author
दुष्यंत कुमार पटेल
नाम- दुष्यंत कुमार पटेल उपनाम- चित्रांश शिक्षा-बी.सी.ए. ,पी.जी.डी.सी.ए. एम.ए हिंदी साहित्य, आई.एम.एस.आई.डी-सी .एच.एन.ए Pursuing - बी.ए. , एम.सी.ए. लेखन - कविता,गीत,ग़ज़ल,हाइकु, मुक्तक आदि My personal blog visit This link hindisahityalok.blogspot.com
Recommended Posts
जवाँ हो जाये
तन ये मेरा जवान हो जाये याद में ये मकान हो जाये प्यार तेरा मिला नहीं मुझको दिल जले तो मसान हो जाये प्यार में... Read more
तमन्ना है मेरे दिल की
?????? तमन्ना है मेरे दिल की एक आखिरी इजहार हो जाये। दुनिया से जाते वक्त आँखों को तेरा दीदार हो जाये। जुबां खामोश हो मेरी... Read more
**** ईदी मुझे मिल जाये ****
ख़्वाब ऐसे कातिलों से गुजर रहे हैं वो हमारे होने से जो मुकर रहे हैं कल ईद है दीद उनका हो ना हो स्वप्न हमारे... Read more
☀ *दिवाली ऐसी हो जाये* ?
Sonu Jain कविता Oct 26, 2017
☀ *दिवाली ऐसी हो जाये* ? *जगमग दिल का कोना कोना हो जाये,,,,* *साफ नजर आये मंजिल ऐसा उजाला हो जाये,,,,* *सारे सपने सारे अपने... Read more