Sep 12, 2016 · दोहे
Reading time: 1 minute

मधुबन माँ की छाँव है

‘आकुल’ या संसार में, माँ का नाम महान्।
माँ की जगह न ले सके, कोई भी इनसान।।1।।

माँ की प्रीत बखानिए, का मुँह से धनवान।
कंचन तुला भराइए, ओछो ही परमान।।2।।

मधुबन माँ की छाँव है, निधिवन माँ की ओज।
काशी, मथुरा, द्वारिका, दर्शन माँ के रोज।।3।।

मान और अपमान क्या, माँ के बोल कठोर।
बीच झाड़ के ज्यों खिलें, लालहिं मीठे बोर।।4।।

माँ के माथे चन्द्र है, कुल किरीट सा जान।
माँ धरती माँ स्वर्ग है, गणपति लिखा विधान।।5।।

‘आकुल’ नियरे राखिए, जननी जनक सदैव।
ज्यों तुलसी का पेड़ है, घर में श्री सुखदेव।।6।।

पूत कपूत सपूत हो, करे न ममता भेद।
मुरली मीठी ही बजे, तन में कितने छेद।।7।।

मात-पिता-गुरु-राष्ट्र ये, सर्वोपरि हैं जान।
उऋण न होगा जान ले, कर सेवा सम्मान।।8।।

‘आकुल’ महिमा जगत् में, माँ की अपरंपार।
सहस्त्र पिता बढ़ मातु है, मनुस्मृति अनुसार।।9।।

18 Views
Copy link to share
Dr. Gopal Krishna Bhatt 'Aakul'
76 Posts · 4.5k Views
Follow 2 Followers
1970 से साहित्‍य सेवा में संलग्‍न। अब तक 14 संकलन, 6 कृतियाँँ (नाटक, काव्‍य, लघुकथा,... View full profile
You may also like: