Skip to content

” मदहोशियाँ छाई हुई हैं ” !!

भगवती प्रसाद व्यास

भगवती प्रसाद व्यास " नीरद "

गीत

May 18, 2017

चकाचौंध है ,
सज़ धज ऐसी !
हम तो क्या ,
लुट गये परदेसी !
खुद में ही –
डूबे डूबे हो !
खामोशियाँ ढाई हुई हैं !!

दीवानों सा ,
चढ़ा खुमार है !
महकी बहकी ,
ये बहार है !
प्यासे प्यासे –
अधर कह रहे !
सरगोशियाँ चाही हुई हैं !!

ना सम्मोहन ,
वशीकरण है !
डूबा डूबा ,
जाये मन है !
दुनिया की अब –
खबर किसे है !
स्मृतियां मन भाई हुई हैं !!

Author
भगवती प्रसाद व्यास
एम काम एल एल बी! आकाशवाणी इंदौर से कविताओं एवं कहानियों का प्रसारण ! सरिता , मुक्ता , कादम्बिनी पत्रिकाओं में रचनाओं का प्रकाशन ! भारत के प्रतिभाशाली रचनाकार , प्रेम काव्य सागर , काव्य अमृत साझा काव्य संग्रहों में... Read more
Recommended Posts
ये माना घिरी हर तरफ तीरगी है
ये माना घिरी हर तरफ तीरगी है मगर छन भी आती कहीं रोशनी है न करती लबों से वो शिकवा शिकायत मगर बात नज़रों से... Read more