मदर दे एक नया विश्लेषण ----आर के रस्तोगी

करते है वन्दना उन पुरुषो की,जिन्होंने नारियों को माँ बनाया |
नारियां भी उतनी पूज्यनीय है,जिन्होंने पुरुषो को पिता बनाया ||

दोनों है एक दूजे के पूरक,देखो यही है विधि का एक विधान |
मदर डे फादर डे बिन नहीं मन सकता, दोनों ही एक समान ||

देखो ! माँ में ममता है समाई, पिता में है पुरुस्तत्व समाया |
देखो ! ये एक बायलोजीकल नियम है,जिसे स्रष्टि ने बनाया ||

WOMAN में भी MAN छिपा है MAN बिन नही WOMAN |
देखो आंग्ल भाषा ने भी दी है इनको एक सुन्दर पहचान ||

माता पिता दो शब्द है,बोले जाते हिंदी भाषा में एक साथ |
देखो ! हिन्दी भाषा ने दी है, दोनों को एक सुंदर सौगात ||

आर के रस्तोगी
मो 9971006425

Like 1 Comment 0
Views 5

You must be logged in to post comments.

Login Create Account

Loading comments
Copy link to share
Sahityapedia Publishing