मुक्तक · Reading time: 1 minute

मदर्स-डे पर समर्पित

ये मेरी माँ का आंचल है, लजाने हम नही देंगे ।
पिया जो माँ का पय हमने,गँवाने हम नही देंगे ।
वतन के ही लिये जीना ,वतन के ही लिये मरना ।
तिरंगा माँ का परचम है, झुकाने हम नही देंगे ।

डा प्रवीण कुमार श्रीवास्तव, सीतापुर

91 Views
Like
Author
CMS combined distt hospital Balrampur.born1july1961 .intersts in litrature.science.social works&pathologyµbiology. Books: कथा अंजलि -कथा संग्रह लेख अंजलि- लेख संग्रह प्रेमांजली -कहानी संग्रह
You may also like:
Loading...