मदर्स-डे पर समर्पित

ये मेरी माँ का आंचल है, लजाने हम नही देंगे ।
पिया जो माँ का पय हमने,गँवाने हम नही देंगे ।
वतन के ही लिये जीना ,वतन के ही लिये मरना ।
तिरंगा माँ का परचम है, झुकाने हम नही देंगे ।

डा प्रवीण कुमार श्रीवास्तव, सीतापुर

Like Comment 0
Views 13

You must be logged in to post comments.

Login Create Account

Loading comments
Copy link to share
Sahityapedia Publishing