.
Skip to content

* मत मार गर्भ में मुझको माता *

Neelam Ji

Neelam Ji

कविता

July 11, 2017

मत मार गर्भ में मुझको माता ,
कर थोड़ा तो रहम मेरी दाता ।
तुम ही मुझको मारोगी अगर ,
कौन बनेगा फिर मेरा विधाता ।।

क्या मैं तुम्हारा अंश नहीं माता
क्यूँ मेरा आना तुमको नहीं भाता
बता मुझको कौन बचाएगा ?
जब दुश्मन बन जाए खुद माता ।।

बेटी बिन कोई घर न बस पाता ,
बेटी बिन कोई वंश न बढ़ पाता ।
बेटी नहीं बेटों से कम मेरी माता ,
है कौन जगह जहाँ बेटी नहीं माता ।।

क्यों है बेटी से नफरत का नाता ,
तुम भी तो किसी बेटी हो माता ।
हर सुख दुःख में साथ निभाऊंगी ,
आने दो मुझे इस दुनिया में माता ।।

बेटे से बढ़कर नाम कमाऊंगी ।
बेटे की कमी पूरी कर दिखलाऊंगी ,
बेटी कोमल है कमजोर नहीं माता ,
तेरी लिए सारी दुनिया से लड़ जाऊंगी ।।

मत मार गर्भ में मुझको माता ,
कर थोड़ा तो रहम मेरी दाता ।
तुम ही मुझको मारोगी अगर ,
कौन बनेगा फिर मेरा विधाता ।।

Author
Neelam Ji
मकसद है मेरा कुछ कर गुजर जाना । मंजिल मिलेगी कब ये मैंने नहीं जाना ।। तब तक अपने ना सही ... । दुनिया के ही कुछ काम आना ।।
Recommended Posts
बेटी बचाओ बेटी पढ़ाओ
Neelam Ji कविता Feb 23, 2017
**बेटी बचाओ बेटी पढ़ाओ** पढ़ेगी बेटी आगे बढ़ेगी बेटी । बेटों से भी बढ़कर चमकेगी बेटी । जग में नाम रोशन करेगी बेटी । हर... Read more
माँ अब बंदिश हट जाने दो
माँ अब बंदिश हट जाने दो बेटी को जग में आने दो गर्भ मे माँ क्युं मार रही हो मुझको दुनिया में आने दो गुलशन... Read more
** मेरी बेटी **
Neelam Ji कविता Jul 19, 2017
मिश्री की डली है मेरी बेटी , नाजों से पली है मेरी बेटी । हर गम से दूर है मेरी बेटी , पापा की परी... Read more
मेरी बेटी - मेरा वैभव
कविता मेरी बेटी - मेरा वैभव - बीजेन्द्र जैमिनी मेरी बेटी मेरी शान मेरी आनबान मेरी है पहचान मेरी बेटी - मेरा वैभव मेरी बेटी... Read more