.
Skip to content

* मत भूलना माँ का प्यार *

Neelam Ji

Neelam Ji

कविता

July 8, 2017

???????
भूल जाओ हर बात चाहे
मत भूलना माँ का प्यार
जान से भी ज्यादा तुमसे
उसने सदा किया है प्यार ।

परवाह नहीं की जान की भी
तुमको पाने की खातिर
जीवन अपने से खेल गई
तुमको पैदा करने की खातिर ।

खुद गीले में सोई मगर
तुमको सूखे में सुलाया
नींद न आई जब तुमको
बाँहों में उसने झुलाया ।

खून अपने से सींचा
छाती का दूध पिलाया
तेरी खुशियों की खातिर
उसने अपना दर्द भुलाया

खुद से पहले उसने तुमको
खाना सदा खिलाया
खुद भले ही भूखी रही
पर तुमको ना भूखा सुलाया ।

ममता की छाया में
तुमको सदा बिठाया
खुद भले ही रोती रही
तुमको कभी ना रुलाया

जब भी आँख में आँसू देखे
झट सीने से लगाया
पूछ के पीड़ा उसने तेरी
फट से उसे मिटाया

दुखड़े भले ही कितने सहती
फिर भी मगर वो हंसती रहती
तेरी ही ख़ुशीयों की खातिर
दिन रात वो खपती रहती ।

तुम से ही शुरू माँ का संसार
तुम्हें देखकर ही है जीती
प्यार और ममता की मूरत माँ
तेरे लिए हर जहर है पीती ।

भूल जाओ हर बात चाहे
मत भूलना माँ का प्यार
जान से भी ज्यादा तुमसे
उसने सदा किया है प्यार ।
???????

Author
Neelam Ji
मकसद है मेरा कुछ कर गुजर जाना । मंजिल मिलेगी कब ये मैंने नहीं जाना ।। तब तक अपने ना सही ... । दुनिया के ही कुछ काम आना ।।
Recommended Posts
क्या तुमको हमसे प्यार नहीं ?
Neelam Ji गीत Jul 15, 2017
??????? हमें तुमसे प्यार कितना तेरा इंतजार कितना तुमको एतबार नहीं क्या तुमको हमसे प्यार नहीं । चाहा तुमको हद से ज्यादा तुमने किया ना... Read more
??देती है मज़ा फिर जीत??
मेरी जान ले ले चाहे प्यार की ख़ातिर। बस एकबार मुस्क़रादे यार की ख़ातिर।। अर्श पर देख सूरज कैसे चमक रहा। खुद को जलाकर संसार... Read more
ग़ज़ल ( मम्मी तुमको क्या मालूम )
ग़ज़ल ( मम्मी तुमको क्या मालूम ) सुबह सुबह अफ़रा तफ़री में फ़ास्ट फ़ूड दे देती माँ तुम टीचर क्या क्या देती ताने , मम्मी... Read more
प्यार
S Kumar कविता Aug 6, 2017
किसी के साथ सपने देखना प्यार नहीं किसी के सपनों को पूरा करना प्यार है ।। सिर्फ किसी के साथ जीना प्यार नहीं, किसी से... Read more