Aug 20, 2016 · कविता
Reading time: 1 minute

मत्तगयन्द सवैया

सुंदर पुष्प सजा तन-कंचन
केश -घटा बिखराय चली है।

अंजित नैन कटार बने
अधरों पर लाल लुभाय चली है।।

अंगहि चंदन गंध भरे
मद-मत्त गयंद लजाय चली है।

हाय! गयो हिय मोर सखे!
कटि जूँ गगरी छलकाय चली है।।

रचना-रामबली गुप्ता

1063 Views
Copy link to share
राम बली गुप्ता
3 Posts · 1.1k Views
Follow 1 Follower
You may also like: