.
Skip to content

मतलब

डॉ०प्रदीप कुमार

डॉ०प्रदीप कुमार "दीप"

कविता

May 17, 2017

” मतलब ”
—————

मतलब……
केवल स्वार्थ नहीं !
लेकिन यह……..
कोई परार्थ नहीं |
बहुत से मायने हैं
इस मतलब के !
जैसे कि —
अर्थ
तात्पर्य
समझ
स्वार्थ
स्वहित !!
यदि स्वार्थ और
स्वहित ही है…
गूढ़तम रहस्य
मतलब के
तो इसमें इंसान
का क्या दोष ?
क्यों कि —
सत्व-रज-तम….
इन्हीं गुणों से
इंसान का रूप बदलता है |
काम-क्रोध-मद-लोभ
जैसे कषायों और
चित्त-वृत्तियों की प्रबलता
मनुज के……..
वास्तविक स्वरूप को
आवरण और
विक्षेप शक्ति द्वारा
ढ़क दी जाती हैं
तो मतलब का
मायावी स्वरूप
प्रस्फुटित होता है
जो उत्कर्ष को
अपकर्ष में !
विकास को
पतन में !
आदि को
अंत में !
मानुष को
अमानुष में
और सत्य को
असत्य में
परिवर्तित करके
इंसान से उसकी
इंसानियत…….
छीन लेता है
और लहराता है
परचम इस….
मतलब का ||
——————————
– डॉ० प्रदीप कुमार “दीप”

Author
डॉ०प्रदीप कुमार
नाम : डॉ०प्रदीप कुमार "दीप" जन्म तिथि : 02/08/1980 जन्म स्थान : ढ़ोसी ,खेतड़ी, झुन्झुनू, राजस्थान (भारत) शिक्षा : स्नात्तकोतर ,नेट ,सेट ,जे०आर०एफ०,पीएच०डी० (भूगोल ) सम्प्रति : ब्लॉक सहकारिता निरीक्षक ,सहकारिता विभाग ,राजस्थान सरकार | सम्प्राप्ति : शतक वीर सम्मान... Read more
Recommended Posts
प्यार में मतलब
Sonu Jain कविता Oct 27, 2017
??प्यार में मतलब?? लव की खमोशी से है मतलब,,, आँखो की नादानी से है मतलब,,, नूर तुम्हारा मेरे को मन भाये,,, बिंदी करधानी से है... Read more
कुछ होते है मतलब से.....
कुछ होते है मतलब से होते है, शायद मतलबी दुनियां से होते है रिश्ते नाते प्यार भरी बाते लंबे-चोड़े वायदों की भरी पराते मतलब से... Read more
=-=-=-दुनिया के रंग - =-=-=
मतलब की है यह दुनिया, चले दो रंगी चाल। जब तक आपसे स्वार्थ है, आप हो बेमिसाल।। आप हो बेमिसाल, कोई न आप से प्यारा।... Read more
बात गर सच है तो ताईद का मतलब क्या है।
बात गर सच है तो ताईद का मतलब क्या है। झूठे लोगों से यूँ उम्मीद का मतलब क्या है।। बात कोई भी हो जब फ़र्क़... Read more