.
Skip to content

मतदान

रकमिश सुल्तानपुरी

रकमिश सुल्तानपुरी

दोहे

February 20, 2017

।मतदान।

नेता निर्छल कर्मठी,, योगी सरस् सुजान ।
देश गांव छवि देखकर,करें सभी मतदान ।।

लालच धन डर धौस का दान नही है दान ।
प्रलोभन से हो तटस्थ, करें सभी मतदान ।।

छोड़ पुरानी दुश्मनी ,,मान और अपमान ।
जाति धर्म से हो परे ,,करें सभी मतदान ।।

©राम केश मिश्र

Author
रकमिश सुल्तानपुरी
रकमिश सुल्तानपुरी मैं भदैयां ,सुल्तानपुर ,उत्तर प्रदेश से हूँ । मैं ग़ज़ल लेखन के साथ साथ कविता , गीत ,नवगीत देशभक्ति गीत, फिल्मी गीत ,भोजपुरी गीत , दोहे हाइकू, पिरामिड ,कुण्डलिया,आदि पद्य की लगभग समस्त विधाएँ लिखता रहा हूं ।... Read more
Recommended Posts
बढ़ चढ़ कर मतदान
लोकतंत्र की राह जब,..... लगे नहीं आसान ! फर्ज समझकर तब करो, बढ़ चढ़ कर मतदान !! पछतावा हो बाद में, ..रखा नहीं यदि ध्यान... Read more
सभी करें मतदान
कुम्भ चुनावी अब शुरू, आओ कर लें स्नान पुण्य कमाने के लिए ,सभी करें मतदान सभी करें मतदान, यही कर्तव्य हमारा अपना हिंदुस्तान, जान से... Read more
मतदान जागरूकता के लिए प्रयास
मतदान जागरुकता के लिए कुछ नारे - मतदान अगर शत प्रतिशत होगा, लोकतंत्र तभी उज्ज्वल होगा । जो अपना शासन चाहता है वो वोट डालने... Read more
मतदान पर दोहे
लोकतंत्र का है यही, हम सबको पैगाम अपना मत देकर सही, करें देश का काम सत्ता को समझो नहीं, नेताओं जागीर जनता के इक वोट... Read more