मतदान व मतदाता पर दोहे --आर के रस्तोगी

मत का दान जो करे,वह मतदाता कहलाय |
मत का दान जो ले,वह सीधा नेता बन जाय ||

मन भेद न कीजिये,भले ही मत भेद हो जाय |
सही सच्चा रास्ता,कभी भी दुःख न हो पाय ||

मतदान से पहले नेता,मतदाता के चक्कर लगाय |
मतदान के बाद , मददाता नेता के चक्कर लगाय ||

मतदान एक पर्व है ,इसे सोच समझ कर कीजिये |
ये तो एक दान है,इसको ठीक व्यक्ति को दीजिये ||

मतदान के लिये.करोड़ो रुपये मत खर्च कीजिये |
इस खर्च को आप , मतदाता के हित में कीजिये ||

मतदान के लिये देश ,जाति धर्म में न बट पाय |
ऐसा मतदान सब करे ,जब सारा देश एक हो जाय ||

चुनाव् एक ऐसी नाव है जिसमे नेता दिए है बिठाय |
भ्रष्ट हाथो में जब पतवार होगी इसको कौन बचाय ||

आर के रस्तोगी
मो 9971106425

Sahityapedia Publishing
Like Comment 0
Views 7

You must be logged in to post comments.

Login Create Account

Loading comments
Copy link to share

Do you want to publish your book?

Sahityapedia's Book Publishing Package only in ₹ 9,990/-

  • Premium Quality
  • 50 Author copies
  • Sale on Amazon, Flipkart etc.
  • Monthly royalty payments

Click this link to know more- https://publish.sahityapedia.com/pricing

Whatsapp or call us at 9618066119
(Monday to Saturday, 9 AM to 9 PM)

*This is a limited time offer. GST extra.