.
Skip to content

मजदूर दिवस

डॉ संगीता गांधी

डॉ संगीता गांधी

लघु कथा

May 6, 2017

………………..
“मैं पैसे नहीं दूंगी !.. आज मजदूर दिवस है , मालकिन ने खुश होकर तनख्वाह से अलग थोड़ा इनाम दिया है ” ।
” तुम तो शराब में उड़ा दोगे ” ! — सुक्खी ने पति का प्रतिकार करते हुए चिल्ला कर कहा ।
“पैसे देती है या नहीं ” ..जानती है न वरना तेरा क्या हाल करूँगा !
तीनो बच्चे झुग्गी के एक कोने में सहम कर दुबके हुए थे ।मां सुक्खी को मारना और पैसे मांगना उनके पिता का रोज का काम था ।
पैसे दे !
नहीं दूंगी !
तो ले फिर! …गंगू ने पास पड़ा लोहे का चिमटा सुक्खी के सिर पर दे मारा ।
सुक्खी माथे से बहते खून को थामे फर्श पर गिर पड़ी ।
उसकी मुट्ठी में भींचे रुपये छीन कर गंगू झुग्गी से बाहर निकल गया
साथ ही बड़बड़ा रहा था —
बाहर मैदान में एक रैली हो रही थी ,जिसमें स्त्री शक्ति ,नारी और मजदूर अधिकारों पर बड़े बड़े भाषण दिये जा रहे थे ।ये भाषण सुक्खी के कानों को चीर रहे थे ।
बाहर शराब पी कर गंगू बड़बड़ा रहा था ……..
” बड़ी आयी मजदूर दिवस वाली

Author
Recommended Posts
ज़िंदाबाद
एक मई पर.... ज़िंदाबाद ज़िंदाबाद ज़िंदाबाद मजदूर दिवस ज़िंदाबाद... ज़ोर ज़ोर से नारे लगती भीड़, अधिकारो की मांग, नारों की बुलन्दी, मजदूर दिवस है आज,... Read more
ले जाओ घर से
2122 212 1 22 जितने चाहे पैसे ले जाओ घर से। उड़ने मत दो परिंदों को पर से। जितने चाहे पैसे ले जाओ घर से।... Read more
सपनों की ताक़त (मज़दूर दिवस विशेष)
समय चुपचाप खड़ा है, देख रहा है छोटे-छोटे बच्चों को, काम करते हुए इन आँखों में भी, सपने है जिसे पूरा करने की ज़िद है,... Read more
तू भी.... मै भी....
मजदूर दिवस पर कुछ कलम घिसाई मैंने भी कर दी आज। +++++++++++++++++++++++ ?मै भी .... तू भी..?.( कलम घिसाई) ********************* मै मजदूर तू मजदूर। फिर... Read more