Reading time: 1 minute

मचलने लगता है सावन

घिरें काली घटायें जब,मचलने लगता है सावन
तभी पानी की बूंदे बन ,छलकने लगता है सावन

पहन कर देखो हरियाली, खुशी से ये धरा झूमे
खिले फूलों की खुशबू से ,महकने लगता है सावन

पड़ें नीले गगन में जब ,किनारी सात रंगों की
समा ये देख रँगीला ,बहकने लगता है सावन

न सखियाँ झूलतीं झूला, न बाबुल का हँसे अँगना
जमाना देख बदला सा , तड़पने लगता है सावन

पड़ें जब ‘अर्चना’ रिमझिम ,पवन चलने लगे मधुरिम
सुने जब गीत बारिश के ,चहकने लगता है सावन

गजल–४३२
26-07-2017
डॉ अर्चना गुप्ता

2 Likes · 24 Views
Copy link to share
Dr Archana Gupta
996 Posts · 119k Views
Follow 72 Followers
डॉ अर्चना गुप्ता (Founder,Sahityapedia) "मेरी तो है लेखनी, मेरे दिल का साज इसकी मेरे बाद... View full profile
You may also like: