मचलती चाहतें

==========={ मचलती चाहतें }==============
चाहतें मचलती रही ता-उम्र ……….. तुम तक लौट आने की
न उठे कदम इक बार फिर से …………..चोट खाने के लिए
====================================
© गौतम जैन ®

1 Like · 3 Comments · 10 Views
Gautam Jain
Gautam Jain
हैदराबाद
74 Posts · 1k Views
ग़ज़ल , कविता , हाइकु , लघुकथा आदि लेखन प्रकाशित रचनाएं:--- काव्य संरचना, विवान काव्य...
You may also like: