Jun 16, 2016 · कविता
Reading time: 1 minute

मगरमच्छ

मोटे-ताजे-रसीले व्यंजनों के शौकीन,
एक मगरमच्छ का दिल,
एक नेताजी पर,
मचल गया था l
नेताजी का स्वास्थ्य,
उसे रास आ़या,
इसलिये वह उन्हें,
पूरा का पूरा,
निगल गया था l
परन्तु, निगलते ही,
उसका शरीर भीतर से,
बुरी तरह उबल गया l
नेताजी की नेतागिरी,
पचा न पाया,
इसलिये उन्हें,
जीवित ही,
वापस बाहर उगल दिया l

(सर्वाधिकार सुरक्षित)

– राजीव ‘प्रखर’
मुरादाबाद (उ. प्र.)
मो. 8941912642

1 Like · 52 Views
Copy link to share
Rajeev 'Prakhar'
Rajeev 'Prakhar'
37 Posts · 1.2k Views
I am Rajeev 'Prakhar' active in the field of Kavita. View full profile
You may also like: