.
Skip to content

मकसद

पं.संजीव शुक्ल सचिन

पं.संजीव शुक्ल सचिन

शेर

September 11, 2017

कुछ भी नहीं, एक आस तो है
कुछ कर गुजरने का मक्सद खास तो है,
यहीं मक्सद है मेरे जीवन की पूँजी
मेधावी पे होते जुल्मो का एहसास तो है।
होंगे आरक्षण मुक्त हम हिन्द में
मन के आंगन मे “सचिन”
एक विश्वास तो है।
पं.संजीव शुक्ल “सचिन”

Author
पं.संजीव शुक्ल सचिन
मैं पश्चिमी चम्पारण से हूँ, ग्राम+पो.-मुसहरवा (बिहार) वर्तमान समय में दिल्ली में एक प्राईवेट सेक्टर में कार्यरत हूँ। लेखन कला मेरा जूनून है।
Recommended Posts
सचिन चालीसा...(पियुष राज)
आज 24 अप्रैल सचिन तेंदुलकर के जन्मदिन पर विशेष "सचिन चालीसा" जय-जय सचिन उजागर जय असंख्य रनो के सागर जोर-जोर से शाॅट लगाते सारा स्टेडियम... Read more
[[ खूबसूरत सज रहा बाज़ार हैं ]]
खूबसूरत सज रहा बाज़ार हैं ,! रोज लगता है यहां त्यौहार है ,!! १ सज रहे बाज़ार खुशियों के यहाँ ,! ईद का मक़सद बढ़ाना... Read more
अपनों के दरमियां सियासत फ़िजूल है, .........
अपनों के दरमियां सियासत फ़िजूल है, मक़सद न हो कोई, तो बग़ावत फ़िजूल है. रोज़ा, नमाज़, हज, या हो सदक़ा -ए -ख़ैरात; अपने ना खुश... Read more
हसरतें
कुछ हसरतें जिंदगी की राह में यूं शामिल हो गई, उन की ताबीर मेरे इरादों की हकीकत हो गई, क्या हुआ ग़र ख्वाहिशों को पंख... Read more