Skip to content

* मंज़िलों के दीप*

Dharmender Arora Musafir

Dharmender Arora Musafir

गज़ल/गीतिका

June 14, 2017

मेरी हिम्मत देखकर जब रास्ते चलने लगे !
मंज़िलों के दीप हर सू खुद ब खुद जलने लगे !!
::::::::::::::::::::::::
हसरतें दिल की जगी सब थी निहां जो अब तलक !
इन निगाहों में शगुफ्ता ख्वाब फ़िर पलने लगे !!
::::::::::::::::::::::::
गैर मुमकिन ये गज़ल है कह रहे थे लोग जो !
आज़ अपना सर झुकाए हाथ वो मलने लगे !!
::::::::::::::::::::::::
शायरी की जब मिरे मन में लगन सी लग गई !
आँखों आँखों मे हमारे रात दिन ढलने लगे !!
::::::::::::::::::::::::
हौंसले की जोत लेकर जब मुसाफ़िर चल दिया !
दौर गर्दिश के सभी फ़िर दूर से टलने लगे !!
::::::::::::::::::::::::

धर्मेन्द्र अरोड़ा “मुसाफिर”
9034376051

Share this:
Author
Dharmender Arora Musafir
*काव्य-माँ शारदेय का वरदान *

क्या आप अपनी पुस्तक प्रकाशित करवाना चाहते हैं?

साहित्यपीडिया पब्लिशिंग से अपनी पुस्तक प्रकाशित करवायें और आपकी पुस्तक उपलब्ध होगी पूरे विश्व में Amazon, Flipkart जैसी सभी बड़ी वेबसाइट्स पर

साहित्यपीडिया की वेबसाइट पर आपकी पुस्तक का प्रमोशन और साथ ही 70% रॉयल्टी भी

साल का अंतिम बम्पर ऑफर- 31 दिसम्बर , 2017 से पहले अपनी पुस्तक का आर्डर बुक करें और पायें पूरे 8,000 रूपए का डिस्काउंट सिल्वर प्लान पर

जल्दी करें, यह ऑफर इस अवधि में प्राप्त हुए पहले 10 ऑर्डर्स के लिए ही है| आप अभी आर्डर बुक करके अपनी पांडुलिपि बाद में भी भेज सकते हैं|

हमारी आधुनिक तकनीक की मदद से आप अपने मोबाइल से ही आसानी से अपनी पांडुलिपि हमें भेज सकते हैं| कोई लैपटॉप या कंप्यूटर खोलने की ज़रूरत ही नहीं|

अधिक जानकारी के लिए यहाँ क्लिक करें- Click Here

या हमें इस नंबर पर कॉल या WhatsApp करें- 9618066119

Recommended for you