Nov 18, 2018 · कविता
Reading time: 1 minute

मंथन

आयु के अंतिम पड़ाव पर
एक छोर पर खड़ी
एक ज़िन्दगी
इतिहास बनने को उत्सुक
दुविधा में पड़ी
मंथन कर रही है
क्या दिया है उसने संसार को
उसके ज़िंदा होने का उपहार I

तीसरे महायुद्ध की आशंका
परमाणु युद्ध की विभीषिका
क्षत विक्षित ओज़ोन की चेतावनी
श्वेत श्याम की कहानी
खोखले मूल्यों पर खोखले भाषण
पर्यावरण की ज़ुबानी
या फिर ऐसा इंसान
जो विवेक खो चुका हो
आतंक, उग्र , अलगाववाद के
दलदल में धंसा
कैंसर एड्स और नशे में फंसा
इंसानियत का मुखोटा पहने
इंसानियत को ही रो रहा हो।
——————————–
सर्वाधिकार सुरक्षित/त्रिभवन कौल

4 Likes · 7 Comments · 133 Views
Copy link to share
श्रीनगर (जम्मू कश्मीर ) में 01 जनवरी 1946 को जन्मे त्रिभवन कौल एक दुभाषिये लेखक-कवि... View full profile
You may also like: