मंच को छोड़

चलो अब मंच को छोड़ो ,कहीं अब और लिखेंगे।
लगाकर गेप फिर थोड़ा ,यहां आकर के लिखेंगे।
बचे हम बोर करने से , नहीं खुद बोर ही होवे।
मजा लेने को लिखते है ,मजा लेकर के लिखेंगे।

Like Comment 0
Views 7

You must be logged in to post comments.

Login Create Account

Loading comments
Copy link to share