Jan 3, 2021 · मुक्तक
Reading time: 1 minute

मंगल हो

दिल में प्रेम भाव प्रतिपल हो|
ऋद्धि-सिद्ध सुख शांति अमल हो|
कर्म धर्म इतिहास मधुरमय-
जग के जन-जन का मंगल हो|
लक्ष्मी सिंह
नई दिल्ली

3 Comments · 18 Views
Copy link to share
लक्ष्मी सिंह
826 Posts · 261.4k Views
Follow 45 Followers
MA B Ed (sanskrit) My published book is 'ehsason ka samundar' from 24by7 and is... View full profile
You may also like: