गर्भ से बेटी की पुकार

रागनी भ्रूण हत्या

गर्भ से बेटी की पुकार

गर्भ से बेटी कहण लगी , बात सुणो एक मेरी माँ !
बिना खता मनैं रहे सता , क्यूँ दई ज्यान पै घेरी माँ !!( टेक )
1. सारी बात सुणली थारी , जो जिक्र था मेरे मरावण का
अवैध कर्म करया यो तम्ह नै , अल्ट्रासाउंड करावण का
सौ गऊवां का पाप लगै सै , माता गर्भ गिरावण का
कन्या रक्षा धर्म बताया भव -सागर पार तिरावण का
कई सुता तनैं जन्मी कोन्या , न्यूं बेटी तेरी टेरी माँ !!
2. क्यूं बेटा -बेटा कररी सै मैं , बेट्यां तैं घणा ख्याल करूं
बेटा संभालै एक कुटुम्ब नै , मैं दोयाँ की संभाल करूं
जिब बेटे मारैं धक्के तेरै , मैं तेरी देख – भाल करूं
थारी ईज्जत बिगड़ण दयूं ना , बुरे करमां की मैं ताल करूं
बिना कहे सब काम करूंगी , नही लगाऊँ देरी माँ !!
3. तूं खुद देखै दुनिया मन्नै , गर्भ बीच मरवावै ना
बेटा – बेटी समान होवैं सै न्यूं तनै कोए समझावै ना
सारी दुनिया जै गर्भ गिरादे , तो बेट्या नै बहु थ्यावै ना
मैं भी चाहती जगत देखणा , तूं कहर मेरे पै ढावै ना
मेरे नाम की तूं देवी माता , क्यूँ नजर तन्नै फेरी माँ !!
4. खाणा खाती नै टोक लियो चाहे , उठ बीच मैं काम करूं
खेल – कूद और पढ़ – लिख कै थारा रोशन जग मैं नाम करूं
श्रीनिवास शर्मा सतगुरु नै फेर , बोडर ऊपर सलाम करूं
दुनिया के म्हां नामी अपणा मैं , लाखणमाजरा गाम करूं
कह कपीन्द्र शर्मा मानैगी तो , इतणिए बात भतेरी माँ !!
8529171419

Kapinder sharma

Like Comment 0
Views 200

You must be logged in to post comments.

Login Create Account

Loading comments
Copy link to share